मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य =

मेरे इस ब्लॉग का प्रमुख उद्देश्य सकारात्मकता को बढ़ावा देना हैं। मैं चाहे जिस मर्ज़ी मुद्दे पर लिखू, उसमे कही ना कही-कोई ना कोई सकारात्मक पहलु अवश्य होता हैं। चाहे वह स्थानीय मुद्दा हो या राष्ट्रीय मुद्दा, सरकारी मुद्दा हो या निजी मुद्दा, सामाजिक मुद्दा हो या व्यक्तिगत मुद्दा। चाहे जो भी-जैसा भी मुद्दा हो, हर बात में सकारात्मकता का पुट जरूर होता हैं। मेरे इस ब्लॉग में आपको कही भी नकारात्मक बात-भाव खोजने पर भी नहीं मिलेगा। चाहे वह शोषण हो या अत्याचार, भ्रष्टाचार-रिश्वतखोरी हो या अन्याय, कोई भी समस्या-परेशानी हो। मेरे इस ब्लॉग में हर बात-चीज़ का विश्लेषण-हल पूर्णरूपेण सकारात्मकता के साथ निकाला गया हैं। निष्पक्षता, सच्चाई, और ईमानदारी, मेरे इस ब्लॉग की खासियत हैं। बिना डर के, निसंकोच भाव से, खरी बात कही (लिखी) मिलेगी आपको मेरे इस ब्लॉग में। कोई भी-एक भी ऐसा मुद्दा नहीं हैं, जो मैंने ना उठाये हो। मैंने हरेक मुद्दे को, हर तरह के, हर किस्म के मुद्दों को उठाने का हर संभव प्रयास किया हैं। सकारात्मक ढंग से अभी तक हर तरह के मुद्दे मैंने उठाये हैं। जो भी हो-जैसा भी हो-जितना भी हो, सिर्फ सकारात्मक ढंग से ही अपनी बात कहना मेरे इस ब्लॉग की विशेषता हैं।
किसी को सुनाने या भावनाओं को ठेस पहुंचाने के लिए मैंने यह ब्लॉग लेखन-शुरू नहीं किया हैं। मैं अपने इस ब्लॉग के माध्यम से पीडितो की-शोषितों की-दीन दुखियों की आवाज़ पूर्ण-रूपेण सकारात्मकता के साथ प्रभावी ढंग से उठाना (बुलंद करना) चाहता हूँ। जिनकी कोई नहीं सुनता, जिन्हें कोई नहीं समझता, जो समाज की मुख्यधारा में शामिल नहीं हैं, जो अकेलेपन-एकाकीपन से झूझते हैं, रोते-कल्पते हुए आंसू बहाते हैं, उन्हें मैं इस ब्लॉग के माध्यम से सकारात्मक मंच मुहैया कराना चाहता हूँ। मैं अपने इस ब्लॉग के माध्यम से उनकी बातों को, उनकी समस्याओं को, उनकी भावनाओं को, उनके ज़ज्बातों को, उनकी तकलीफों को सकारात्मक ढंग से, दुनिया के सामने पेश करना चाहता हूँ।
मेरे इस ब्लॉग का एकमात्र उद्देश्य, एक मात्र लक्ष्य, और एक मात्र आधार सिर्फ और सिर्फ सकारात्मकता ही हैं। हर चीज़-बात-मुद्दे में सकारात्मकता ही हैं, नकारात्मकता का तो कही नामोनिशान भी नहीं हैं। इसीलिए मेरे इस ब्लॉग की पंचलाइन (टैगलाइन) ही हैं = "एक सशक्त-कदम सकारात्मकता की ओर..............." क्यूँ हैं ना??, अगर नहीं पता तो कृपया ज़रा नीचे ब्लॉग पढ़िए, ज्वाइन कीजिये, और कमेन्ट जरूर कीजिये, ताकि मुझे मेरी मेहनत-काम की रिपोर्ट मिल सके। मेरे ब्लॉग पर आने के लिए आप सभी पाठको को बहुत-बहुत हार्दिक धन्यवाद, कृपया अपने दोस्तों व अन्यो को भी इस सकारात्मकता से भरे ब्लॉग के बारे में अवश्य बताये। पुन: धन्यवाद।

Saturday, August 08, 2009

उन्हें तो आप फांसी दे नही सकते...........
इसलिए हमें ही फांसी दे दो।

जी हाँ, आज हर हिन्दुस्तानी की यही पुकार हैं। सन 1947 (आज़ादी) से लेकर आज तक भारत आतंकवाद से झूझ रहा हैं। दुनिया भर में आतंकवाद का जन्म-दाता और जड़ पाकिस्तान हैं। और पाकिस्तान भारत का ही पड़ोसी देश हैं। जाहिर हैं, आतंकवाद से सबसे ज्यादा लंबे समय और सबसे ज्यादा पीड़ित भारत ही हैं।

असल में आतंकवाद को किसी ने देखा, भुगता, और निपटा हैं, तो सिर्फ़ और सिर्फ़ हिन्दुस्तान ने ही। अमेरिका, रूस, ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, और अन्य सभी देशो ने तो आतंकवाद का संशिप्त रूप और थोड़े समय तक ही देखा-भोगा हैं। पर भारत तो आतंकवाद के जन्म, विस्तार, फैलाव, आदि का साक्षी रहा हैं। और अभी तक का इतिहास गवाह हैं कि-"भारत ने हमेशा सारे विश्व को इस तरफ़ से आगाह किया हैं, और अपनी ओर से पकिस्तान पोषित आतंकवाद को मुँह-तोड़ जवाब दिया हैं।" यह अलग बात हैं कि-"दुनिया ने हमेशा भारत की आतंकवाद-बारे बात-चेतावनी को नज़र-अंदाज़ किया हैं।"

चाहे वह पंजाब का आतंकवाद हो या जम्मू-कश्मीर का आतंकवाद। चाहे वह पूर्वी राज्यों का नक्सलवाद हो या दक्षिणी राज्यों का लिट्टे, सभी पाकिस्तान के आतंकवाद से ही प्रेरित हैं। दुनिया भर में जितने भी अतिवादी-उग्रवादी संगठन हैं, उन सभी की जड़े किसी ना किसी रूप में पाकिस्तान में हैं।


भारत ने दुनिया के करीब सभी देशो को आतंकवाद के बारे में बहुत कहा, बहुत चेताया। पर दुनिया ने माना ही नही, दुनिया ने इसे पाकिस्तान को बदनाम करने की भारतीय साजिश करार दिया। लेकिन अमेरिका पर 9/11/2004 को हुए बड़े हमले के बाद दुनिया चेती। अब दुनिया को पता चल गया था कि-"भारत आतंकवाद-बारे झूठ नही बोल रहा था, और हिंदुस्तान आतंकवाद से सर्वाधिक पीड़ित देश हैं।"

ना जाने कितने सैनिक और आम लोग इस आतंकवाद की भेंट चढ़ गए, ना जाने कितने बच्चे अनाथ-यतीम हो गए, और ना जाने कितनी औरतें विधवा हो चुकी हैं, इस नामुराद आतंकवाद के कारण। लेकिन अब हिन्दुस्तानी जनता में भारत सरकार के प्रति बेहद गुस्सा हैं। और हो भी क्यों ना??, आख़िर उनका गुस्सा जायज़ भी हैं।

दरअसल, भारत में पहले ही आतंकवाद काफ़ी फैला हुआ हैं, सरकार वैसे भी आतंकवाद-रोधी कानूनों की पालना सख्ती से नही कर रही हैं। ऊपर से पकड़े गए आतंकवादियों को फांसी ना देना, आग में घी का काम कर रहा हैं। मुंबई में पिछले साल 26/11 को होटल ताज में हुए को लेकर काफ़ी गुस्सा हैं। लोगो ने बाकायदा सार्वजनिक तौर पर अपनी नाराजगी-अपने गुस्से को जाहिर भी किया था। लोगो ने मुंबई हमले में पकड़े गए एक-मात्र जीवित आतंक-कारी को फांसी देने की पुरजोर मांग भी की थी।

आज हर भारतीय-हर हिन्दुस्तानी की यही मांग हैं कि-"पकड़े गए सभी आतंकवादियों को फांसी दी जानी चाहिए।" आम लोगो के सब्र का बाँध टूट रहा हैं, लोगो की सहन-शक्ति जवाब देने लगी हैं। लोग अब हर हाल सरकार और अदालत से उनके लिए फांसी की सज़ा चाहते हैं। लोग अब इसमे और ज्यादा विलंब-देरी नही सह सकते हैं।

वैसे भी अफजल और कसाब का कृत्य क्षमा-योग्य नही हैं। उन्होंने जो किया हैं, उससे तो मुझे लगता हैं कि-"उन्हें नरक में भी स्थान नही मिलेगा।" कसाब का मामला तो ज्यादा पुराना नही हैं, लेकिन अफजल का मामला तो बेहद पुराना हैं। कसाब के मामले में सब कुछ हैं-गवाह हैं, सुबूत हैं, प्रूफ़ हैं। यानी वह सब हैं, जो उसे सज़ा दिलाने के लिए काफी हैं। इसीलिए कसाब का मामला भी पुराना प्रतीत होता हैं।

अगर भारतीय जनता के गुस्से से बचना हैं और हिन्दुस्तान की सरहदों अ-क्षुन्न रखना हैं, तो इन पकड़े गए दोनों आतंक-कारियों को फांसी देनी ही होगी। यही आज हर हिन्दुस्तानी और हर आतंकवाद पीड़ित लोगो की मांग हैं।

मेरी सरकार से अपील हैं कि-"हर आम और आतंकवाद पीड़ित लोगो की भावनाओ का ख्याल रखते हुए, कद्र करते हुए अफजल और कसाब को तत्काल फांसी दी जाए।"

अफजल और कसाब को फांसी देने में हो रही देरी से आम हिन्दुस्तानी खीज उठा हैं। वह अब और इंतज़ार करने की स्थिति में नही हैं। आम आदमी भारत सरकार की इसी लापरवाही-नाकारापन-और लचीलापन को देख कर क्रोधित हैं। सरकार के रवैये से आम आदमी शर्मिन्दा हो रहा हैं। हिन्दुस्तानी जनता ख़ुद को ठगा सा महसूस कर रही हैं कि-"जिनको हमने अपना प्रतिनिधि बना कर संसद भेजा हैं, वह आतंकवाद के ख़िलाफ़ कोई प्रभावी कदम नही उठा रहे हैं।"

आम-जन कि भावनाएं कविता के रूप में कुछ यूँ हैं =
अफजल-कसाब को दे दो फांसी,
अरे अफजल-कसाब को दे दो फांसी।

उनको फांसी मिलने में हो रही देरी से हम शर्मिंदा हैं,
शर्म से गडे जा रहे हैं हम सभी हिन्दुस्तानी।

तुममे में नही हो दम उन्हें फांसी देने का,
तो हमें फांसी पर लटका दो।

तुम्हारे इस लचीलेपन-ढीलेपन-और नाकारेपन को हमारे बाद वाले सदा याद रखेंगे,
अबकी दफा आना हमारे दर पर वोट मांगने।

हम सब पर माटी का क़र्ज़ हैं,
हम वह भली-प्रकार फांसी पर लटक कर चुका देंगे।

धन्यवाद।


FROM =

CHANDER KUMAR SONI,

L-5, MODEL TOWN, N.H.-15,

SRI GANGANAGAR-335001,

RAJASTHAN, INDIA.

CHANDERKSONI@YAHOO.COM

00-91-9414380969

CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

2 comments:

  1. soni ji,
    iss baar aapka blog dil ko chhu gaya....
    sahi bhi hain aafjal oor kaasaab ko faanasi har haal or jaldi di jaani chaahhiye.

    ReplyDelete
  2. बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete

सुस्वागतम,
मुझे आपका ही इंतज़ार था,
कृपया बेझिझक आप अपने अच्छे-बुरे, सकारात्मक-नकारात्मक, जैसे भी हो,
अपने विचार-सुझाव-शिकायत दर्ज करे.
मैं सदैव आपका आभारी रहूंगा.
धन्यवाद.